हरसरन लाल गुप्ता - लखनऊ के मां चंद्रिका देवी मंदिर में परिवार सहित किये दर्शन

नवरात्रों के इस पवित्र उत्सव पर आज पारिवारिक जनों के साथ मां चन्द्रिका शक्तिपीठ जाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ, जहाँ माता का दर्शन कर उनके मनोहारी स्वरुप का वंदन कर स्वयं को कृतार्थ महसूस किया. माता का चंद्रिका स्वरुप बेहद उज्जवल और तन-मन को शांति प्रदान कर देने वाला है. यहाँ आकर स्वयं ही आपको एक सकारात्मकता का बोध होता है, जो मन को प्रफुल्लित कर देता है.

लखनऊ के प्रसिद्द मंदिरों में से एक मां चंद्रिका देवी मंदिर नेशनल हाईवे 27 पर बख्शी के तालाब से कुछ किलोमीटर की दुरी पर स्थित है और देवी के प्रमुख शक्तिपीठों में से एक है. मंदिर के विषय में कहा जाता है कि यहाँ गोमती नदी पर स्थित महीसागर संगम तीर्थ के तट पर एक प्राचीन नीम के वृक्ष के कोटर में आज भी नव दुर्गों की वेदियाँ सुरक्षित रखी हुयी हैं.

अठारहवीं सदी के पूर्वार्द्ध से स्थापित इस मंदिर में एक चबूतरे पर मठ बना हुआ हैं, जहाँ शक्ति की आराधना की जाती है. यहाँ हर अमावस्या में मेला भी लगता है, जो जनता के मध्य काफी प्रसिद्द है. स्कंदपुराण में वर्णित किया गया है कि द्वापर युग में यहाँ घटोत्कच के पुत्र वीर बर्बरीक ने तप किया था, जिसके कारण आज भी यहाँ उनका पूजन करने का विधान है.

मां का पूजन और आशीष यहाँ किया जाता है और भक्त विशेष तौर पर नवरात्रों में यहाँ श्रृद्धा भाव से आकर मां शक्ति के इस भव्य स्वरुप का दर्शन और वंदन करते हैं, साथ ही भक्तगण यहाँ मनोकामना भी माँगा कर जाते हैं. मनवांछित कामनाओं के पूरा होने पर माता के मंदिर में घंटा बांधकर श्रृद्धालु उनका धन्यवाद करते हैं.



-नवरात्रों के इस पवित्र उत्सव पर आज पारिवारिक जनों के साथ मां चन्द्रिका शक्तिपीठ जाने का सौभाग्य प्र
-नवरात्रों के इस पवित्र उत्सव पर आज पारिवारिक जनों के साथ मां चन्द्रिका शक्तिपीठ जाने का सौभाग्य प्र
क्षेत्र की आम समस्याएँ एवं सुझाव दर्ज़ करवाएं.

क्षेत्र की आम समस्याएँ एवं सुझाव दर्ज़ करवाएं.

नमस्कार, मैं हरसरन लाल गुप्ता आपके क्षेत्र का प्रतिनिधि बोल रहा हूँ. मैं क्षेत्र की आम समस्याओं के समाधान के लिए आपके साथ मिल कर कार्य करने को तत्पर हूँ, चाहे वो हो क्षेत्र में सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य, समानता, प्रशासन इत्यादि से जुड़े मुद्दे या कोई सुझाव जिसे आप साझा करना चाहें. आप मेरे जन सुनवाई पोर्टल पर जा कर ऑनलाइन भेज सकते हैं. अपनी समस्या या सुझाव दर्ज़ करने के लिए क्लिक करें - जन सुनवाई.

क्या यह आपके लिए प्रासंगिक है? मेसेज छोड़ें.